मोटू पतलू चाहिए एपिसोड 51 – मकान मालिक

मोटू पतलू चाहिए

मोटू पतलू चाहिए एपिसोड 51 – मकान मालिक



मोटू पतलू चाहिए में हम मोटू और पतलू की जोड़ी और मकान मालिक की कहानी पढ़ेंगे.साथ ही साथ हम मोटू पतलू फुल एचडी वीडियो भी देखेंगे.



नोट :- इस कहानी का वीडियो देखने के लिए पोस्ट के निचे “Watch Video Now” की बटन पर क्लीक कीजिए.वीडियो का आनंद लेने के लिए Chrome ब्राउज़र का इस्तेमाल करे !

कहानी की शुरुआत – मोटू पतलू चाहिए

सुबह सुबह मुर्गे की बाग की आवाज़ सुनकर मोटू की नींद खुलती है. मोटू अपनी आँखे खोलता है तो उसे घर में पतलू नही दिखाई देता.मोटू यहाँ वहां देखने लगता है. फिर उसे एक ड्रम हिलता हुआ दिखाई देता है. मोटू उस ड्रम को देखता है तो उसके निचे पतलू छुपा हुआ होता है. पतलू बहुत डरा हुआ होता है.


यह भी पढ़िए :-

मोटू पतलू चाहिए एपिसोड 52 : डॉग ट्रेनिंग


मोटू पतलू से पूछता है की तुम इतने डरे हुए क्यों हो.
पतलू मोटू को बताता है की आज एक तारीख है. आज मकान मालिक किराया मांगने के लिव आयेगा. पिछले तिन महीने से हमने उसका किराया नही दिया है. आज तो मकान मालिक बिना किराया लिए मानने वाला नही है. पतलू की बात सुनकर मोटू कहता है इसमें डरने की क्या बात है. तभी दरवाजा खटखटाने की आवाज सुनाई देती है. दोनों देखते है तो बाहर मकान मालिक खड़ा होता है.

मकान मालिक से बचने का प्लान – मोटू पतलू चाहिए

मोटू पतलू मकान मालिक से बचने का प्लान सोचने लगते है. पतलू आइडिया देता है की हम औरत का भेष बना लेते है फिर मकान मालिक हमें नही पहचान पायेगा.पतलू की बात सुनकर मोटू उसे बताता है की मकान मालिक को हमने पहले ही औरत बनकर बेवकूफ बनाया है इसबार वो हमें पहचान लेगा.पतलू फिर सोचने लगता है.

थोड़ी देर बाद पतलू के दिमाग मर एक और आइडिया आती है.दोनों के पास अमीरचंद और फकीरचंद के कपडे पड़े हुए होते है.दोनों कपडे पहनकर अमीरचंद और फकीरचंद बन जाते है. घर का दरवाजा खोलकर बाहर आ जाते है. लेकिन मकान मालिक दोनों को पहचान लेता है और उनकी जमकर पिटाई करता है.मकान मालिक से बचने के लिए दोनों यहाँ वहां भागने लगते है.

घसीताराम की एंट्री – मोटू पतलू चाहिए

मकान मालिक से भागते भागते मोटू पतलू घसीताराम के पास पोहंच जाते है.घसीताराम उन्हें बताता है की मकान मालिक से बचने का उसका बिस साल का तजुर्बा है. घसीताराम उन दोनों को अपने घर ले जाता है.मकान मालिक भी पीछा करते करते घसीताराम के घर के पास आ जाता है.घसीताराम मोटू पतलू को मुस्लमान के कपडे देता है.

मुसलमान के कपडे पहनकर मोटू पतलू घसीताराम के घर से बाहर निकलते है. बाहर मकान मालिक खड़ा होता है लेकिन इस बार वो मोटू पतलू को पहचान नही पाता.मकान मालिक मुसलमान बने मोटू पतलू को घसीताराम के बारे में पूछता है.तभी मोटू को छींक आ जाती है.छींकने की वजह से मोटू की नकली दाढ़ी निकल जाती है.मकान मालिक उन्हें पहचान लेता है और उनकी जमकर धुनाई करता है.

कहानी का अंत – मोटू पतलू चाहिए

मकान मालिक से बचने के लिए मोटू पतलू भागते है और एक मंदिर में छिप जाते है. यहाँ मोटू साधू का बेष बना लेता है और पतलू भगवान की मूर्ति के पीछे छिप जाता है. उनका पीछा करते करते मकान मालिक वहा पोहंच जाता है. मोटू पतलू से परेशांन मकान मालिक भगवन के आगे हाथ जोड़ता है और कहता है की भगवान मेरे तिन महीने का किराया दिला दो.तभी भगवान की मूर्ति के पिछे छुपा पतलू भगवान बनकर बोलने लगता है.पतलू अपनी आवाज बदलकर मकान मालिक से कहता है की पुत्र मोटू पतलू बहोत नेक लोग है.जो भी उन्हें एक रुपये की मदत करेगा में उन्हें उससे सौ गुना ज्यदा पैसे दूंगा.

लालच में आकार माकन मालिक दस हजार रुपये साधू बने मोटू के हाथ में दे देता है और वहा से चला जाता है.दस हजार रुपये देखकर मोटू नाचने लगता है पतलू भी नाचने लगता है लेकिन मकान मालिक तभी वापस आ जाता है.मोटू पतलू को नाचता देख वो समझ जाता हे की दोनों ने उसे बेवकूफ बनाया है.मकान मालिक मोटू पतलू को मारने के लिए उनके पीछे दौड़ता है.उससे बचने के लिए मोटू पतलू भी भागने लगते है और यही कहानी खत्म हो जाती है.

वीडियो देखिए – मोटू पतलू चाहिए एपिसोड 51 : मकान मालिक

मोटू पतलू चाहिए

Watch Video Now


Note:- All the images and videos use in this article are owned by their respected owner.We do not violate any law or copyright policy.

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*